Aawaz24 News
Aawaz24.com

BREAKING NEWS

टेस्ला की भारत में एंट्री पर फंसा टैक्स का पेंच, अमेरिका में 30 लाख तो 60 लाख रुपये होगी भारतीय बाजार में आयात शुल्क के बाद कीमत

0 566,781

अमेरिका की प्रसिद्व इलेक्ट्रिक वाहन कंपनी टेस्ला की कार खरीदने का इंतजार कर रहे अमीर लोगों के लिए बुरी खबर है। भारत सरकार और टेस्ला के बीच आयात शुल्क के विवाद के चलते कंपनी अपनी कारों की लॉन्च यहां टाल सकती है।

दरअसल, बीते दिनों एलन मस्क ने भारत सरकार से इलेक्ट्रिक कारों पर आयात शुल्क में कटौती की मांग की थी। अब सरकार की ओर से स्पष्ट तौर पर कहा गया है कि इलेक्ट्रिक वाहनों पर आयात शुल्क में कटौती की योजना नहीं है। केंद्र सरकार में मंत्री कृष्ण पाल गुर्जर ने संसद को बताया, भारी उद्योग मंत्रालय में ऐसा कोई प्रस्ताव विचाराधीन नहीं है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार इसे बढ़ावा देने के लिए घरेलू कर और चार्जिंग स्टेशन जोड़ने जैसे कुछ अन्य कदम उठा रही है।

आयात शुल्क घटाने की मांग की

ब्लूमबर्ग न्यूज की रिपोर्ट के मुताबिक टेस्ला ने पिछले महीने परिवहन और उद्योग मंत्रालयों को पत्र लिखकर इलेक्ट्रिक कारों पर आयात शुल्क को 100 फीसदी की मौजूदा सीमा से 40 फीसदी तक कम करने का अनुरोध किया था। इसके बाद एलन मस्क ने ट्विटर पर कहा था कि भारत में आयात शुल्क दुनिया में सबसे ऊंचा है। इसके साथ ही मस्क ने कहा है कि अगर कंपनी भारत में आयातित वाहनों के साथ सफल रहती है, तो बाद में मैन्युफैक्चरिंग प्लांट लगाने पर विचार कर सकती है।
कार निर्माताओं के बीच एक बहस छेड़ दी

भारत में आयात शुल्क पर टेस्ला के कदम ने देश में कार निर्माताओं के बीच एक बहस छेड़ दी है। देश की प्रमुख कार कंपनी मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) के चेयरमैन आर सी भार्गव ने भी हाल ही में कहा है कि माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की ऊंची दर तथा अधिग्रहण की ऊंची लागत की वजह से देश में कारों की मांग सुस्त बनी हुई है। फिलहाल भारत 40,000 डॉलर से अधिक की कीमत की पूरी तरह आयातित कार पर सीआईएफ (लागत, बीमा और भाड़े) के साथ 100 फीसदी का आयात शुल्क लगाता है। इससे कम लागत की कार पर आयात शुल्क की दर 60 फीसदी है।

इस आर्टिकल को शेयर करें

Leave A Reply

Your email address will not be published.

x

COVID-19

India
Confirmed: 33,448,163Deaths: 444,838
x

COVID-19

World
Confirmed: 227,865,874Deaths: 4,682,908