Aawaz24 News
Aawaz24.com

BREAKING NEWS

झारखंड: कोयले की किल्लत जारी रही तो त्योहार में भी रुलाएगी बिजली

0 878,991

कोयले की कमी के कारण बिजली उत्पादन में गिरावट से झारखंड में जारी बिजली संकट की स्थिति में रविवार को दिन में कुछ सुधार दिखा, हालांकि रात में किल्लत जारी रही। कोयले की किल्लत यदि जारी रही तो त्योहार में भी बिजली रुलाएगी। वैसे कोल कंपनियों का दावा है कि अगर मौसम मेहरबान रहा और बारिश नहीं हुई तो जल्द यह संकट दूर हो जाएगा।

झारखंड में सुबह 10 से शाम पांच बजे तक राज्य को मांग के बराबर करीब 1600 मेगावाट बिजली मिलती रही। जबकि शनिवार तक दिन के समय 450 मेगावाट तक की लोड शेडिंग हो रही थी। हालांकि, शाम पांच बजे के बाद मांग और आपूर्ति में 300 मेगावाट तक की कमी रिपोर्ट की गई। मांग की तुलना में बिजली की कम उपलब्धता के कारण शहरों में तीन और ग्रामीण इलाकों में 4 से 5 घंटे तक की कटौती देखी गई। जेबीवीएनएल अधिकारियों का कहना है कि सही आकलन सोमवार को लगाया जा सकेगा।

दस-पंद्रह दिन में स्थिति सामान्य हो जाएगी

उधर, कोल इंडिया के सूत्रों की मानें तो कोयले का सामान्य उत्पादन होने की स्थिति में दस-पंद्रह दिन में स्थिति सामान्य हो जाएगी। प्रतिदिन डेढ़ मिलियन टन तक कोयला उत्पादन संभव है। हर महीने पावर प्लांटों को 42 मिलियन टन तक कोयला डिस्पैच होने से मोटे तौर पर बिजली संकट जैसी स्थिति नहीं रहेगी।

टीवीएनएल के पास कोयले का एक दिन का स्टॉक

तेनुघाट विद्युत उत्पादन निगम टीवीएनएल की दो में से एक यूनिट को चलाने के लिए रोज एक रेक कोयला उपलब्ध हो रहा है। दूसरी ओर टीवीएनएल के पास एक से डेढ़ दिन का कोयला है। टीवीएनएल एमडी एके शर्मा के मुताबिक प्लांट की एक यूनिट को चलाने के लिए रोज कोयला मिल रहा है। जब तक कोयला नियमित उपलब्ध होता रहेगा, प्लांट से बिजली का उत्पादन किया जाता रहेगा।

इस आर्टिकल को शेयर करें

Leave A Reply

Your email address will not be published.

x

COVID-19

India
Confirmed: 34,624,360Deaths: 470,530
x

COVID-19

World
Confirmed: 264,722,033Deaths: 5,241,976